Kapil

Mahashivratri

ना कोई जंतर ना कोई तंत्र ना ही कोई मंत्र चाहता हूं…भोले बस मैं तुमको, खुद के अन्दर चाहता हूं !                                                       +VKD

Women’s day

हां कुछ खामियां कुछ उलझने कुछ बंदिशें हैं, तुमपेहोंसला है, तो खुला आसमान भी तो है तुमपे…तो उठो, पंख खोलो और दिखा दो, के ऊंचाईयों के हर पहर में तुम होओर फिर गिरे भी तो इससे ज्यादा कहां गिरोगे, Kapil इस बार खुद की नजर… Read More »Women’s day

Velentine

रूह-रूह में इश्क़ दौड़ता है…कहीं सुकुन तो कहीं दर्द छोड़ता है !                                                  -VKD

Proposal 💞

उसके इजहार के सलीके, हाय.. क्या बताएं…झुकी हुई नज़रें ही काफी हैं, इशारों के लिए !                                                                -VKD उसके इजहार के सलीके, हाय.. क्या बताएं…झुकी हुई नज़रें ही काफी हैं, इशारों के लिए !                                                                -VKD

Motivational

ना कोई जंतर ना कोई तंत्र ना ही कोई मंत्र चाहता हूं…भोले बस मैं तुमको, खुद के अन्दर चाहता हूं ! -VKD

Farmer’s Bill

क़त्ल करके खुद का, हर शख्स कातिल हो गया…जब चौकीदार मेरे देश का, देश बेच के सो गया !                                                                        -VKD

Things

हां तुमने ठीक सुना, किसी चीज़ की तलाश है मुझे…पर कान खोल के सुन लो, तुम कोई चीज़ नहीं !                                                                 -VKD

Chitter

आओ और लिपट जाओ मुझसे…हर सांप को कहां “चंदन” नसीब होता है !                                                   -VKD